“मुसलमान ने पम मोदी से लगाई गुहार ,ईद पर सिंवई नहीं खायेंगे लेकिन पाकिस्तानी चीनी का इस्तेमाल नहीं करेंगे”

0
1984

जहाँ एक तरफ़ सत्ताधारी भाजपा और उसके नेता पाकिस्तान की आलोचना करते हैं वहीँ पाकिस्तान से व्यापारिक सम्बन्ध भी भाजपा सरकार में ही मज़बूत हुए हैं. पाकिस्तान से भारत सरकार चीनी मंगाती है. इस आयात की वजह ये है कि पाकिस्तान से आने वाली चीनी 1 रुपया किलो सस्ती पड़ती है, इसी कारण भारत सरकार पाकिस्तान से चीनी मंगाती है लेकिन पाकिस्तान से इस तरह के सम्बन्ध का विरोध कुछ राजनीतिक दल तो कर ही रहे हैं वहीँ कानपुर के एम्एम्ए फैन्स एसोसिएशन ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नाम एक ज्ञापन दिया है. इस ज्ञापन के ज़रिये उन्होंने मांग की है कि पाकिस्तान से ली जाने वाली चीनी रोकी जाए.


संगठन के राष्ट्रीय अध्यक्ष हयात जफर हाशमी ने शहर के लोगों के एक प्रतिनिधिमंडल के साथ जिलाधिकारी सुरेन्द्र सिंह से मिले. इस दौरान उन्होंने प्रधानमंत्री के नाम एक ज्ञापन जिलाधिकारी को सौंपा. ज्ञापन में कहा गया है कि पाकिस्तान से 60 लाख मीट्रिक टन चीनी जो ली गयी है वो वापिस की जाए. जफर हाशमी ने कहा कि देश के मुसलमानों का हवाला देते हुए कहा कि चाहे मुसलमान ईद पर चीनी का इस्तेमाल ना कर पाए लेकिन वो पाकिस्तान से आने वाली चीनी नहीं खायेगा. उन्होंने कहा कि ईद पर सिंवई बिना चीनी के बना ली जायेगी लेकिन पाकिस्तान की चीनी ना खायी जायेगी. हाशमी ने कहा कि अगर पाक से चीनी ना आने पर देश में चीनी की कमी होती है तो देश का 25 करोड़ मुसलमान ईद पर अपनी सिंवई बिना चीनी के पका लेगा.


हयात ने कहा कि मेरे घर पर तीन किलो चीनी कल आई जो काफी ज्यादा सफेद थी।. उन्होंने जब इस बारे में मालूमात की कि इतनी सफ़ेद चीनी कैसे आ गयी तो उन्हें पता चला कि ऐसी चीनी पाकिस्तान में ही होती है.उन्होंने बताया कि ये तीन किलो चीनी भी हमने ज्ञापन से साथ दे दी है ताकि पाक को भेज दी जाए.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here