इन बातो से बीवी शोहर पर हराम हो जाती है…

0
397

वालिद की यह ज़िम्मेदारी है कि वह अपने बच्चे का ख्याल रखे. अगर वह कहीं जाते हैं तो वह अपने बच्चे को साथ लेकर जाएँ और अगर वह खेलता है तो वह या ध्यान रखें कि वह अपने से किसी बड़े के साथ ऐसा न करे. वहीँ रात में भी नज़र रखना ज़रूरी है आयर यह ध्यान रखें कि वह अपने किसी कजन के साथ न सोये एक ही बिस्तर पर. इसका यह मतलब यह नहीं है कि सभी कज़न खराब हो जाए. इसके अलावा जब बच्चे इस्लाम के लिहाज़ से बालिग हो जाए तो भी कई ज़रूरी बातों पर ध्यान रखना ज़रूरी हाई और इन बातो का एहतियात ज़रूर किया जाये.



वहीँ सात साल का होने के बाद बेटा बाप के साथ तो एक बिस्तर पार सो सकता है लेकिन माँ के साथ न सोये. इसी तरह सात साल के बाद बेटी जब नौ साल की हो जाए तो माँ के साथ तो एक बिस्तर पर सोये लेकिन बाप के साथ हरगिज़ नहीं. इन सब बातो का हमें एहतियात करना चाहिए. सबसे बड़ा मसला यह है कि अगर कोई बाप अपनी बेटी को इस तरह प्यार करे कि उसके दिल में शहबत पैदा हो गई तो लड़की की माँ यानी मर्द की बीवी उसके लिए हराम हो जाएगी.



हालाँकि इसमें खुद से कुछ फैसला न करें बल्कि ऐसी सूरत में मुफ़्ती ने बात करें उसके बाद कोई फैसला करें.
आइल अलावा और भी कर रिश्तें है जिसमे एहतियात ज़रूरी है और ऐसा न करने पर ऐसे कई मामले सामने आते हैं कि शोहबात पैदा हो जाती है. इसलिए इससे बचने का सबस आसान तरीका है एहतियात बरतने का. वहीँ बाप बेटी के साथ साथ ससुर और बहु की रिश्तों पर भी काफी ध्यान देंना ज़रूरी है. ऐसी कई बात जानना हर किसी को ज़रूरी है. इसलिए यह वीडियो ज़रूर देखें और आगे बढ़ाएं.



LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here