घुसल किन चीज़ों से फ़र्ज़ होता है? घुसल का सही तरीका…

0
699

जब तक मुकम्मल गुसल नहीं होता है तो आपकी नमाज़ अदा नहीं होगी. ऐसे में आपको यह जानना चाहिए कि गुसल कब फ़र्ज़ होता है ताकि आप इसे कर सकें. ऐसे में आपको बता दें कि गुसल जिस्म से मनी निकलने के बाद फर्ज हो जाता है. बताया गया है कि एक मर्द पर गुसल तब फर्ज होगा जब उसके जिस्म से मनी खारिज हो. लेकिन मर्दों के साथ यह बहुत ज्यादा होता है. आपने नाईट फाल्ट जैसा शब्द ज़रूर सुना होगा. ऐसे हालत में मर्दों पर गुसल करना फ़र्ज़ हो जाता है. उम्र बढ़ने या जवानी आने के साथ साथ मर्दों के साथ ऐसा होने लगता है.


जबकि बात अगर औरतों की करें तो उनमें ऐसे मामले बहुत कम देखने को मिलते हैं कि उनको नाईट फाल्ट हो या इस तरह से गुसल फर्ज हो. हज़ारों में से किसी एक औरत के साथ ऐसा होता है. एक तो सूरत यह है गुसल फ़र्ज़ होने की. वहीँ दूसरी सूरत यह है कि जब इंसान अपने पार्टनर के साथ मिलाप करे और इंटर कोर्स हो जाये तो ऐसे में दोनों में से चाहे कोई भी डिसचार्ज हो या न हो लेकिन दोनों पर गुसल फर्ज हो जायेगा.


मर्दों में यह भी कहा जाता है कि अगर आप रात में सोये अगले दिन जब नींद खुली तो आपने देखा कि कपड़ों पर निशान है तो ऐसी सूरत में भी आप पर गुसल फर्ज हो जाता है. वहीँ कुछ चीज़े ऐसी भी हैं, जिनमे गुसल फर्ज नहीं बल्कि सुन्नत है. जैसे कि जुमे के दिन गुसल करना सुन्नत है. वहीँ हर मुसलमान को हफ्ते में कम से कम एक बार ज़रूर गुसल करना चाहिए. ऐसी बहुत सी बात है जिससे हम अंजान हैं और अनजाने में हमसे तमाम तरह की गलतियाँ हो जाती हैं तो आपको यह अपने अन्दर सुधार लाने के लिए यह वीडियो ज़रूर देखना चाहिए.


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here